Please wait...
THANKU FOR BEING A PART OF OUR JOURNEY TO BRING "REVOLUTION IN EDUCATION"
We Genuinely APPRECIATE your PATIENCE

11
M: +2.00/-0.67

निर्देश: निम्नांकित अवधारणा के आधार पर उत्तर दीजिएः 
मानव ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति है। जीवन जीने के लिए है और मनुष्य जीना भी चाहता है। जीने से तात्पर्य है-उल्लासपूर्ण जिंदगी। पर अनेक बार निराशा घेर लेती है। वह कौन सी कला है जिससे उल्लासपूर्ण जिंदगी जी जा सके? यह कला एक बहुत ही साधारण कला है इसके लिए न किसी तप की आवश्यकता है और न योग साधना की। यह कला है दूसरों के लिए जीना, केवल अपने लिए नहीं। जब हम दूसरों के लिए जियेगें तो हमारी जिंदगी दूसरों की भी हो जायेगी और लोग हमसे प्यार करने लगेंगे, जिससे आनन्द के सारे द्वारा कुल जाएगे। ऐसे ही स्थिति में हमारा जीवन सौद्देश्य कहलाएगा और हमें जीवन के मनोहारी रूप के दर्शन हो सकेंगे।

‘मानव ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृति’ का तात्पर्य है-

A
B
C
D

EXPLANATION

मानव ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ कृ...

...
View Full Explanation